group in tally

List of ledger under group in Tally ERP 9

यहाँ पर हम आपको Group in tally के बारे में बताने जा रहे है| आपको यहाँ पर tally erp 9 में

group in tally
Account लिखने से पहले यह जानना बहोत जरुरी है की कोनसा Account के under में Group आएगा वह जानना बहोत जरुरी है| Group in tally में आपको Group के बारे में जानना बहोत जरुरी है| list of ledger under group in tally erp 9 यहाँ पर निचे दिया हुआ है| आप को यहाँ पूरी जानकारी दी जाएगी| Group में आपको हर Group के बारे में Information दी गयी है| how to create Group in tally आपको यहाँ पर images में देख सकते है की Single Group में आप Create , Display और Alter 3 तरह के बटन दिया हुआ है| group in tally में आपको default Group in tally में दिया हुआ होता है | आपको सिर्फ Group select करना है | 


आइये हम जानते है Group in tally के कितने प्रकार के group होते है| सभी group का meaning क्या होता है| कोनसे ledger में कोनसा Group select करना है वह भी आपको जानकारी दी जाएगी|  Group की लिस्ट आप निचे देख सकते है| हम आपको Group की हर तरह के Group के बताने वाले है| 


Bank Account : Bank Account में आपके जितने भी Bank Account है वह सभी Bank Account के ledger के Group में आपको Bank Account को Select करना है| Bank Account यानि के आपके Current Bank Account हो या Savings Bank Account हो सभी का Under Group आपको Bank Account ही Select करना पड़ेगा| Bank Account में आपके सभी प्रकार के Bank Account group select करना है| 

Bank OCC A/c : Bank OCC Account group में यदि आपने Business के लिए Bank से आपने Overdraft Cash Credit loan लिया है| इसीतरह के bank account का Group आपको Bank OCC Account select करना है| 

Bank OD A/C : Bank OD यानि आपने Bank से Overdraft की Facility ली है और उसमे आपके Transaction हो रहे है इस तरह के Bank OD Group में Select करना है| 

branch/Divisions : यहाँ पर आपके Business के 1 से ज्यादा Branches है या फिर आपके Products का Stock एक से ज्यादा Godown में है| यहाँ पर आपको Branches/ Godown Group Select करना है| 

Capital Account : यहाँ पर यदि आप  Individual Proprietorship firm का Account लिख रहे है तो आपको owner के नाम का ledger में आपको Group में Capital Account Select करना है| लेकिन आपकी Partnership Firm है| जितने Partners होंगे उनके Ledger का under Group आपको Capital Account Select करना है| 

Cash-in-Hand : यहाँ पर आपको अपने Business का Cash Transaction करने के लिए जो आप Cash Payment और Cash Receipt का इस्तेमाल करते है| आपके पास Petty Cash हो या Main Cash हो उन सबका आपको Group Cash-in-Hand Select करना है| 

Current Assets : Current Assets Main Group है जिसमे आपको अलग अलग प्रकार के Group शामिल है| जैसे की Stock in Hand , Loan & Advances, Cash in Hand , Duties & Taxes , Sundry Debtors जैसे ग्रुप इन Group के under में आपको दिखाई देंगे| यहाँ पर आप कोई Special Ledger को आप Balance Sheet में दिखाना चाहते है| जैसे की TDS Receivable है| Advance Income Tax, self Assessment Tax जैसे Ledger आप Balance Sheet में दिखाना चाहते है तो आप यहाँ पर इस Group को Select कर सकते है| 

Current Liabilities : Current liabilities एक ऐसा Group है जिसमे आप और भी Group को Add कर सकते है| जैसे की आप जो Group को Balance Sheet में दिखाना चाहते है| उन प्रकार के ग्रुप में आप इस Group को Select कर सकते है| जैसे की आप कोई ledger को Balance Sheet में दिखाना चाहते है| वही सभी leader का group आप यही Select कर सकते है| 

Deposits  (Assets) : यहाँ पर आपको वही Ledger में यह Group लिखना है जिसमे आपने Electricity Deposit, Business के लिए आपने किसी को Deposit दी हो| आपने कोई Govt Department में Deposit दी है वह सभी Ledger के under Group में आप Deposits(Assets) group Select कर सकते है| 

Direct Expenses : Direct Expenses यानि की आपके Purchase के Related सभी प्रकार के Expenses आप यहाँ पर इस Group in tally में Select कर सकते है| जैसे की labor Charges/Salary , Purchase करते वक्त हुआ Transport Expenses, Raw Material purchase करते वक्त होता हुआ सारा Expenses आपको Direct Expenses Group Select करना है| Direct Expenses यानि की Direct Expenses जो Purchase के Related है वह सरे Expenses का Group आप यह Select कर सकते है| 

Direct Income : Direct Income Group में आप Direct Income जो Sales के Related है जैसे की Trade Discount, Credit Note में Price Difference है| इस तरह की Direct Income जो आपके Sales से Related है वह सभी Ledger में आप यह Group Select कर सकते है| 

Duties & Taxes : यहाँ पर आप Duties & Taxes जैसे की GST Payable है| GST Receivable है| TDS Paid करना है|  Excise Duty आपको paid करनी है| Income Tax Paid करना है| सभी प्रकार के Tax के Ledger का आप under Group यह Select कर सकते है| 

Expenses (Direct) : Direct Expenses यानि की आपके Purchase के Related सभी प्रकार के Expenses आप यहाँ पर इस Group in tally में Select कर सकते है| जैसे की labor Charges/Salary , Purchase करते वक्त हुआ Transport Expenses, Raw Material purchase करते वक्त होता हुआ सारा Expenses आपको Direct Expenses Group Select करना है| Direct Expenses यानि की Direct Expenses जो Purchase के Related है वह सरे Expenses का Group आप यह Select कर सकते है| 

Expenses (Indirect) : यहाँ पर अपने Business के Related सभी Expenses जैसे की Salary, Shop Rent, Bank Charges, Stationary Expenses, Telephone & Mobile Bill, Travelling Expenses, सभी प्रकार के Business के Related Expenses Ledger का आप Group यह Select कर सकते है| 

Fixed Assets : आपके Business में जो आप Fixed Assets यानि की Immovable Property भी कहते है| जैसे की Building, Godown Purchase किया है| Motor Bike , Car , Mobile Purchase किया है| immovable and movable property आपने purchase की है जिसका इस्तेमाल आप Business में करते है वह सभी प्रकार के Fixed Assets का ग्रुप यह Select कर सकते है| आपका Personal Account में भी आप Freeze , Air Conditioner, Fan सभी Electronic Goods जिसके आप Fixed Assets के Group में आता है| 

Income (Direct) : Direct Income Group में आप Direct Income जो Sales के Related है जैसे की Trade Discount, Credit Note में Price Difference है| इस तरह की Direct Income जो आपके Sales से Related है वह सभी Ledger में आप यह Group Select कर सकते है|

Income (Indirect) : Income Indirect यानि की जैसे की Fixed Deposit Interest Income , Other Interest Income , Kasar Income, Share Dividend, Bank Dividend सभी प्रकार के जैसे की Indirect Income जो Sales के आलावा की Income है उसी तरह की Income को Indirect Income कहते है| वह जैसी Income का Group Indirect Income Group Select करना है| 

Indirect Expenses : हाँ पर अपने Business के Related सभी Expenses जैसे की Salary, Shop Rent, Bank Charges, Stationary Expenses, Telephone & Mobile Bill, Travelling Expenses, सभी प्रकार के Business के Related Expenses Ledger का आप Group यह Select कर सकते है| Indirect Expenses जो business के Related है वह सभी Expenses Indirect है जो Business के Related नहीं है| लेकिन वह Expenses को Business के Related है वह यह Group select करना है| 

Indirect Income  : Income Indirect यानि की जैसे की Fixed Deposit Interest Income , Other Interest Income , Kasar Income, Share Dividend, Bank Dividend सभी प्रकार के जैसे की Indirect Income जो Sales के आलावा की Income है उसी तरह की Income को Indirect Income कहते है| वह जैसी Income का Group Indirect Income Group Select करना है| 

Investments : Investments यानि आपने Business में या Individual में Investment किया है जैसे की Fixed Deposit, SIP, Share Investment, LIC Investment जिसमे आपको Interest मिलता है| वही सभी प्रकार के Investment में आप को यह Group Select करना है| 

Loan & Advances (Assets) : यानि की आपने Business में किसी को Cheque से या Cash से आपने पैसा दिया है| जो loan है जो आपको वापस मिलने वाला है| इस तरह के Loan का Ledger आपको इस group में select कर सकते है| 

Loan (Liability) : Loan (liability)  में Bank OD, Secured Loan और Unsecured Loan जैसे जो भी Group है वह आपको Balance Sheet में दिखाई देते है| यदि आप कोई Ledger को अलग से Balance Sheet में दिखाना चाहते है तो आप यह Group Select कर सकते है| आपने कोई अलग से Group बनाया है जो Loan से Related है तो आप यह Group Select कर सकते है| 

Misc. Expenses (Assets) : Misc Expenses यानि ऐसे Expenses जिसका आपने खर्चा कर दिया है लेकिन वह आपको आने वाले 5 साल तक या अगले साल आपको बाद Expenses में लेना है| जैसे की Building Construction का काम का खर्च आपने किया है लेकिन आपका Building Construction का काम ख़त्म होने पर आपको उसे Expenses में लिख सकते है| ऐसे Expenses के ledger को आप इस Group Select कर सकते है| 

Provision : यहाँ पर आप Year ending में Provision करते है जैसे की Income Tax Provision, Expenses Provision, इन सभी Provision के Ledger का आप इस ग्रुप में Select कर सकते है| जैसे की year End के Light Bill , Telephone Bill ,Expenses जैसे की Salary , Shop Rent , Godown Rent  जो आप payable Account का Ledger का Group Select कर सकते है| 

Purchase Account : Purchase Account में अपने Purchase के Related Purchase Bill में आप raw Material purchase करते है वह Ledger का group आप Purchase Account में Select कर सकते है| 

Reserve  & Surplus : यह Group आप जब Income & Expenditure यानि कोई Trust का Account लिख रहे है| उसमे Profit जो आता है वह Capital Account में नहीं जाता है| वह Balance Sheet में रहता है तब आप यह Group Select कर सकते है| या फिर आप जब Pvt Ltd company का account लिखते है| तब profit Balance Sheet में ही रहता है capital account में Divide नहीं होता है| 

Sales Accounts :  Sales Account में आप जिस Products का Sales कर रहे है या आप एक ही Ledger बनाया है वह Sales का है तो आपको यह Group Select करना है| 

Secured Loans : Secured Loans में आपने बैंक से Loan लिया है वह Bank Loan Account आपको यहाँ पर Group में Select करना है| जैसे की ICICI Vehicle Loan Account है इसका Group आपको Secured Loans Select करना है| 

Stock in Hand : Stock in hand में यदि आप Inventory Maintain नहीं कर रहे है लेकिन आपको कुछ  Product का Item wise Stock लिखना है तो आप उस Products का Under Group Select करना है| 

Sundry Creditors : आप Purchase Bill यानि आप जिससे Purchase करते है वह सभी Vendor या Merchant का ledger का under Group आपको Sundry Creditors Select कर सकते है| 

Sundry Debtors : Sundry Debtors यानि आप sales Bill में जिसको आपने Products Sale कर रहे है वह सभी Vendor या Merchant के Ledger का under Group आपको Sundry Debtors Select करना है| 

unsecured Loans : Unsecured Loans यानि की आपने अपने Business के लिए आपने व्यक्ति या किसी Partnership Firm से पैसा Loan पर लिया है वह सभी Ledger का Group Unsecured Loan Select करना है| 


हम आपको यहाँ पर group in tally में बहोत से group है| उन group in tally में आपको कोनसा group किस Ledger में आपको इस्तेमाल करना है वह जानकारी आपको यहाँ पर दी गयी है| आपको यहाँ पर group in tally में यहाँ पर आपको List of ledger under group in Tally ERP 9 में कैसे group in tally में select  करना है वह जानकारी आपको दी गयी है| 


Useful Links : 

how to create company in tally in hindi


 CHAPTER-1  RULES OF ACCOUNT


0 comments:

टिप्पणी पोस्ट करें

हमारी वेबसाइट पर आने के लिए धन्यवाद|
Tax देना भारतीय नागरीक का फर्ज है |

आप यहाँ पर आपके Question पूछ सकते है| उसके लिए Ask Question पेज बनाया है वह पर आप Question Comment कर सकते है|
हमारे Assistant आपके Question का उत्तर देने के लिए प्रतिबद्ध है |